totalbhakti logo
facebook icon
upload icon
twitter icon
home icon
home icon
style
graypatti
Today Information
(29-07-2014) Month- Shravan, Paksh- Shukla, Tithi- Dooj (29-07-2014) माह - श्रावण, पक्ष- शुक्ल, तिथि - दूज
| 30-Jul-2014

January Sunshine 2014

vrat and parv
shubh muhurat
shubh yog
vrat and parv
जनवरी माह राशीफ़ल - सन् 2014
मेष- कारोबार उन्नत रहे, सफेद वस्तुओ से लाभ हो। आशाओं में सफलता मिले। सम्बन्धियों से सम्मान मिले। स्त्री से प्रेम बढे। सन्तान से झगडा हो, शत्रुओं की ओर से चिन्ता व भय उत्पन्न हो। शुभ कार्यो में बाधा पडे। रोग द्वारा शरीर को कष्ट पहुंचे।
वृष- कार्य व्यवहार में आय कम तथा व्यय अधिक बने, धन बर्बाद हो। सन्तान से सुख मिले। विचारो में उदारता बने। उदर व नेत्रों के विकार बने, बादी जन्य रोगों से शरीर को कष्ट हो।
मिथुन- कारोबार सुस्त रहे, आय कम व्यय अधिक बना रहे। धन की हानि का डर है। राजदरबार में मान व ओहदा बढे, मित्रो से मिलाप हो, मन उत्साहित रहे, शत्रु कष्ट देने पर कटिबद्ध रहे, परन्तु सफल ना हो सकें, चोरी का भय बना रहे।
कर्क- कारोबार में आय कम तथा व्यय अधिक बना रहे। धन की चिन्ता भी बनी रहे। कठिनाइयों पर विजय हासिल हो। राजसभा से भय बने। मित्रो से बिगाड़ हो, शत्रुओं से हानि मिले, नेत्र विकार से शरिर को कष्ट पहुंचे। मन में चिंता बनी रहे।
सिंह- व्यपार में उन्नति का समय है। सफेद वस्तुओ के व्यपार से विशेष लाभ हो। शत्रुओ पर विजय हासिल हो। किसी से झगडा या अपमान का सामना करना पडे़। पित्तजन्य रोग से शरीर को कष्ट पहुंचे। किसी दुर्घटना का सामना करना पडे़।
कन्या- कारोबार में आय की अपेक्षा व्यय अधिक रहें, धन की हानि हो। आशाओं में सफलता व झगडे़ में विजय मिले। हाकिम से भय बना रहे। इष्ट मित्रो के साथ बिगाड़ उत्पन्न हो, उदर विकार, नेत्र पीडा से शरीर को कष्ट हो।
तुला- व्यवसाय में बाधा पडे़, धन का लाभ कम हो, धर्मकर्म की वृध्दि हो। सम्बन्धियों तथा मित्रों से मतभेद बनें। सन्तान का सुख मिले। यात्रा में नुकसान हो, शरीर को कष्ट पहुंचे। किसी से लडाई-झगडा़ व अपमान हो, मन भयभीत व दुखी रहे।
वृश्चिक- कारोबार मध्य रहे, आय तथा व्यय सम रहे। राजसभा में मान बढे़, शत्रुओं का नाश हो। भाईयों से लाभ पहुंचे, उदर विकार से मुक्ति प्राप्त हो, परन्तु नेत्रों के विकार से शरीर को कष्ट पहुंचे। हर कार्य में विघ्न व कठिनाईयों का सामना करना पडे़।
धनु- कारोबार में वृद्धि हो एवं धन के लाभ के साथ-साथ खर्च अधिक रहे। मनोकामनाएं पूर्ण हों। स्त्री की सहमति से हर कार्य में सफलता मिले। सिर, पीडा व उदर विकार से शरीर को कष्ट पहुंचे। मन में आलस्य तथा क्रोध अधिक रहें, मन चिन्ता बनी रहे।
मकर- व्यवसाय उन्नत रहे, धन का लाभ अधिक रहे, आय पर्याप्त रहे, अचल सम्पति की वृद्धि हो। परिवारजनों के साथ सम्बन्ध अच्छे रहें। कोई प्रसन्नता का सन्देश मिले, ओहदा बढे।
कुम्भ- सेवा के कार्यों में बाधाएं एवं शंका उत्पन्न हों, कृषि के कार्यों में विशेष लाभ हो। आशाओं में सफलता मोले। धर्म के कार्यो में रुचि बढे। उदर व नेत्र विकार से शरीर को कष्ट उत्पन्न हो।
मीन- कारोबार में लाभ हो, किन्तु व्यय अधिक रहे। शत्रुओं पर विजय मिले। उदर व नेत्रों के विकार से मन चिन्तातुर रहे। भाई एवं मित्रों से बिगाड़ उत्पन्न हो। स्त्री का सुख कम प्राप्त हो।


Copyright © Totalbhakti.com, 2008. All Rights Reserved